बुधवार, 30 नवंबर 2016

आरसी चौहान

अनगढ़ शिलाओं पर समय का हस्ताक्षर है शिक्षा
आरसी चौहान
Aarsi chauhan

रविवार, 23 अक्तूबर 2016

धर्म : आरसी चौहान


















धर्म

धर्म बिना गैस का चूल्हा है
जिस पर सेंकी जाती हैं
अफवाहों की रोटियां
बनाए जाते हैं खूंखार पकवान
और आदमी
मनाता है
इंसानियत खत्म होने का जश्न
जैसे जीत लिया हो उसने पूरी धरती।

संपर्क   - आरसी चौहान (प्रवक्ता-भूगोल)
राजकीय इण्टर कालेज गौमुख, टिहरी गढ़वाल उत्तराखण्ड 249121
मोबा0-08858229760 ईमेल- chauhanarsi123@gmail.com

बुधवार, 27 जुलाई 2016

पीसीओ वाले अंकल जी : आरसी चौहान





मजदूर क्या होते हैं ?
उनकी विवाई कहां फटती है ?
उनसे अधिक कोई
क्या बता सकता है ?

कभी मजदूरों में
रीढ़ की हड्डी रहे वे
जब निकाले गये काम से
टूटे हुए बाल की तरह
उलझ कर उलझते चले गये
राजनीति के कंघे में

नहीं आया काम
मजदूर संगठनों का मरहम
भागम दौड़ की जद्दोजहद में
हार पाछकर लौट आये घर
परिवार में छा गया घुप्प अन्हार
और गांव में पसर गयी
अन्हार की छाया

हार नहीं मानी उन्होंने
आशा के सहारे
हिम्मत के चबूतरे पर
खोल ली एक गुमटी में
पी सी ओ

गांव में दस मुंह दस बातें
सबकी सुनकर
बेखबर रहे वे
समय की पीठ पर सवार
चल निकला उनका  पी सी ओ
सुबह से शाम तक
हाय, हैलो में डूबे रहते वे


फिर तो
धीरे धीरे चेहरा पढ़ने का अनुभव
हासिल कर लिया उन्होंने
किसी चेहरे की मुस्कान
और बुझे चेहरे की थकान से
निकाल लेते कई कई अर्थ
मसलन जवान होती लड़की की
मुस्कान की लम्बाई से
अनुमान लगाते उसके रहस्यमयी प्रेम की
जिसकी पंखुड़ियां अभी खुली नहीं थी
ठहाके से
उसके बेशर्मीपन की
और रोने पर देखते
उसके भावनाओं के समन्दर में
डूबता उतराता सपना

सांय सांय बतियाने पर लगाते
किसी अनहोनी घटना का अनुमान
बात करते- करते फफक कर रोने पर
लगाते अंदाज उसके साथ हुई किसी
जोर जबरदस्ती की

और अब जब पूरे अरियात करियात में
ओझल होते पी सी ओ बूथों के बीच
किसी अनोखी घटना से
कम नहीं था
उनका पी सी ओ

कि एक दिन लोगों का हुजूम
बढ़ रहा था उनकी शव यात्रा में
विदा करने उन्हें सधन्यवाद

और अब ये कि
यहां कोई किसी को नहीं बुलाता
दो दिलों को जोड़ने वाले
आने पर कोई फोन
न उठाना चाहता है कोई जहमत
मोबाइल पर बतियाते हुए


संपर्क   - आरसी चौहान (प्रवक्ता-भूगोल)
राजकीय इण्टर कालेज गौमुख, टिहरी गढ़वाल उत्तराखण्ड 249121
मोबा0-08858229760 ईमेल- puravaipatrika@gmail.com
 

शुक्रवार, 17 जून 2016

अकुलाया हाथ है पृथ्वी का : आरसी चौहान





अकुलाया हाथ है पृथ्वी का

उसके कंधे पर
अकुलाया हाथ है पृथ्वी का

एक अनाम सी नदी
बहती है सपने में
आंखों में लहलहाती है
खुशियों की फसल
मन हिरन की तरह भरता है कुलांचे

बाजार बाघ की तरह
बैठा है फिराक में
बहेलिया
फैला रखा है विज्ञापनों का जाल

और एक भूखे कुनबे का झुण्ड
टूट पड़ा है
उनके चमकिले शब्दों के दानों पर

पृथ्वी सहला रही है
अपने से भी भारी
उसके धैर्य को
धैर्य का नाम है किसान।

संपर्क   - आरसी चौहान (प्रवक्ता-भूगोल)
राजकीय इण्टर कालेज गौमुख, टिहरी गढ़वाल उत्तराखण्ड 249121
मोबा0-08858229760 ईमेल- puravaipatrika@gmail.com

सोमवार, 30 मई 2016

स्त्री : आरसी चौहान




 

स्त्री

सभी जीवों में श्रेष्ठ मानव
मानवों में श्रेष्ठ स्त्री
को देखकर
दूर से ही साष्टांग की मुद्रा में
माचिस ने कहा
नमस्ते दीदी
स्त्री बोली
अरे तुम कबसे बोलने लगी
माचिस ने कहा
दीदी जबसे तुम भी मेरी तरह
जलने लगी।






संपर्क   - आरसी चौहान (प्रवक्ता-भूगोल)
राजकीय इण्टर कालेज गौमुख, टिहरी गढ़वाल उत्तराखण्ड 249121
मोबा0-08858229760 ईमेल- chauhanarsi123@gmail.com